tenali ramakrishna stories in hindi

Tenali Raman Stories in Hindi The Thieves And The Well

Tenali Raman Stories in Hindi The Thieves And The Well Tenali Raman Stories in Hindi The Thieves And The Well : तेनाली रामाकृष्ण  राजा कृष्णदेव राय के  के बहुत अच्छे सलाहकार थे वह अपने चतुराई और मजाकिया मजाक के कारण बहुत   लोकप्रिय है।  राजा कृष्णदेव राय की कहानियों...

Tenali Raman Stories in Hindi The Greedy Brahmins

Tenali Raman Stories in Hindi The Greedy Brahmins Tenali Raman Stories in Hindi The Greedy Brahmins : राजा कृष्णदेवराय की माता जी बहुत धार्मिक  स्वभाव की थीं। एक दिन  उन्होंने अपने पुत्र राजा कृष्णदेव राय को बताया कि वह पके हुए आम खाना  चाहती है।  अगली सुबह राजा ने ...

Tenali Raman Stories in Hindi Farmer And Moneylender

Tenali Raman Stories in Hindi Farmer And Moneylender Tenali Raman Stories in Hindi Farmer And Moneylender : एक बार की बात है एक किसान ने  साहूकार से उसी की जमीन पर बना हुआ एक कुआं खरीदा था। कि वह अपने खेतों को अच्छे से   पानी दे सके।  अगले दिन जब किसान उस कुए से पानी...

आवश्यक सूचना – Become A Storyteller  

हेलो दोस्तों, आप सभी के लिए एक अच्छी खुशखबरी है। अगर आपको कहानियां लिखना पसंद है तो आप हमें अपनी हिंदी कहानियां हमारी मेल आईडी hello@moralstoriesinhindi.net पर भेज सकते हैं। हम आपकी कहानियों को आपकी फोटो और और एक Introduction के साथ अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे। तो अब देरी किस बात की हमें आपकी कहानियों का इंतजार है।

Note: 

1 – हम केवल हिंदी भाषा में ही कहानियों को प्रकाशित करते हैं, तो किसी अन्य भाषा में कहानी ना भेजें। 

2- हम केवल और केवल नैतिक,उत्साहवर्धन करने वाली कहानियां ही प्रकाशित करते हैं जिन्हें परिवार के साथ पढ़ा जा सके। अतः किसी भी प्रकार का अश्लील साहित्य ना भेजें।

3- कहानी अपने शब्दों में ही भेजें कहीं से कॉपी पेस्ट करके ना भेजें। यदि आप केवल कॉपी पेस्ट करके हमें कहानियां भेजेंगे, तो हम उन्हें प्रकाशित नहीं कर पाएंगे। हां उन्हें कहानियों को आप अपने शब्दों में दोबारा लिखकर भेजेंगे तो हम उन्हें अवश्य ही प्रकाशित करेंगे।

Lok Kathaye One Mistake

Lok Kathaye One Mistake

Lok Kathaye One Mistake Lok Kathaye One Mistake : महाराज कृष्णदेव राय का दरबार सजा हुआ था। सदा की भाँति तेनालीराम भी अपने आसन पर बैठे थे। वैसे तो महाराज कृष्णदेव राय के दरबार में  बहुत से योग्य ...

read more

क्या आप अपने नाम व फोटो के साथ यहां कहानी प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

No Results Found

The page you requested could not be found. Try refining your search, or use the navigation above to locate the post.

Pin It on Pinterest