क्या आप अपने नाम व फोटो के साथ यहां कहानी प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

Origin of Panchatantra Stories राजा अमरशक्ति और पंडित विष्णु शर्मा

by | Feb 29, 2020 | Panchatantra stories in Hindi, Moral Stories For Kids In Hindi

इस हिंदी कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें (Share This Hindi Story With Your Friends Now)

Origin of Panchatantra Stories राजा अमरशक्ति और पंडित विष्णु शर्मा

Origin of Panchatantra Stories राजा अमरशक्ति और पंडित विष्णु शर्मा: हेलो मित्रों कैसे हैं आप लोग? आमतौर पर हमने आप पंचतंत्र की कहानियों खूब पढ़ा है पर, हम में से ज्यादातर को यह मालूम नहीं है कि आखिर पंचतंत्र की कहानियां शुरू कहां से हुई थी? आज मैं पंचतंत्र के आरंभ की कहानी सुनाने आप लोगों को आया हूं। तो बिना समय व्यर्थ किए हम कहानी शुरू करते हैं:-

आज से लगभग 2000 वर्ष पूर्व दक्षिण भारत में महिलारोप्य नामक नगर में अमरशक्ति नामक एक राजा राज्य करता था। उस राजा के 3 पुत्र थे एक का नाम बहुशक्ति था, दूसरे का नाम उग्रशक्ति था और तीसरे का नाम अनंतशक्ति था

राजा अमरशक्ति काफी उदार  समझदार और नेक राजा थे। लेकिन उनके तीनों ही पुत्र निपट मूर्ख थे। अमरशक्ति ने काफी प्रयास किए कि उनके तीनों पुत्र थोड़ा पढ़ लिख जाए लेकिन उन तीनों का पढ़ाई लिखाई में बिल्कुल भी मन नहीं लगता था। राजा का पुत्र होने के कारण गुरुजन उनसे शक्ति भी नहीं बरत पाते थे। परिणाम यह हुआ कि वह तीनों पुत्र मूर्ख ही रह गए।

राजा को अपने पुत्र इतना चिंतित देखकर उनके मंत्री सुमति ने उन्हें एक उपाय सुझाया। उन्होंने राजा को सलाह दी कि एक विष्णु शर्मा नाम के काफी योग्य शिक्षक हैं। आप अपने तीनों पुत्रों को उन्हीं के पास भेज दीजिए। मेरा ऐसा विश्वास है कि यह तीनों वहां पर अवश्य ही शिक्षित हो जाएंगे।

 राजा अमरशक्ति ने अपने मंत्री की बात मानकर उन्हें आचार्य विष्णु शर्मा को बुलावा भेजा।

राजा के बुलावे पर आचार्य विष्णु शर्मा दरबार में आए और उन्होंने राजा अमरशक्ति से बुलावे का कारण पूछा। राजा अमरशक्ति ने याचना भाव से पंडित विष्णु शर्मा से कहा कि – “मेरे तीनों पुत्र अशिक्षित हैं और काफी प्रयास करने के बाद भी कोई भी उन्हें शिक्षित नहीं कर पाया है। यदि आप मेरे पुत्रों को शिक्षित कर देते हैं तो मैं आपको वचन देता हूं कि मैं आपको 100  गावों का स्वामित्व दे दूंगा।”

यह सुनकर पंडित विष्णु शर्मा ने उत्तर दिया कि – “हे राजा अमरमणि बच्चों को शिक्षित करना मेरा दायित्व है, इसके लिए मुझे अतिरिक्त भुगतान करने की कोई आवश्यकता नहीं है। मैं आपके पुत्रों को आधे वर्ष में ही शिक्षित करने का वचन देता हूं और इसके बदले में मुझे 100 गावों का स्वामित्व भी नहीं चाहिए।”

हालांकि राजा को पंडित विष्णु शर्मा की बात पर यकीन नहीं हुआ लेकिन उनके पास कोई और विकल्प भी नहीं था। अतः उन्होंने पंडित विष्णु शर्मा के पास अपने तीनों मूर्ख पुत्रों को शिक्षा ग्रहण करने के लिए भेज दिया।

 पंडित विष्णु शर्मा राजा के तीनों पुत्रों के विषय में भली-भांति जानते थे। उन्हें यह पता था कि शिक्षा के परंपरागत तरीकों से उनके पुत्रों को नहीं पढ़ाया जा सकता है। पंडित जी ने निर्णय किया कि वह राधा के पुत्रों को रोचक तरीके से  पढ़ाएंगे। उन्होंने उन मूर्ख राजकुमारों को पढ़ाने के लिए कुछ नई कहानियों की रचना की जिसके पात्र पशु और पक्षी होते थे।

पंडित विष्णु शर्मा ने इन पशु पक्षियों की कहानियों का सहारा लेकर राजकुमारों को नीति शास्त्र की शिक्षा देना आरंभ कर दिया। राजकुमारों पर यह नया पढ़ाने का तरीका काम कर गया और वह तीनों रुचि लेकर कहानियों के माध्यम से नीतिशास्त्र को समझने लग गए,  और शीघ्र ही उन्होंने सभी नीतियों को समझने में सफलता प्राप्त कर ली। 

 पंडित विष्णु शर्मा ने जिन कहानियों के माध्यम से राजा अमरशक्ति के तीनों मूर्ख पुत्रों को शिक्षित किया था उन्हें कहानियों के संग्रह को आज पंचतंत्र की कहानियां के नाम से जाना जाता है।


कैसे हो दोस्तों। आपको यह Origin of Panchatantra Stories राजा अमर शक्ति और पंडित विष्णु शर्मा कहानी कैसी लगी? उम्मीद है आपने इस कहानी को खूब enjoy किया होगा। अब एक छोटा सा काम आपके लिए भी, अगर यह कहानी आपको अच्छी लगी हो तो सोशल मीडिया जैसे Facebook, Twitter, LinkedIn, WhatsApp (फेसबुक टि्वटर लिंकडइन इंस्टाग्राम व्हाट्सएप) आदि पर यह पंचतंत्र की कहानी को खूब शेयर करिए।

इसके अलावा पंचतंत्र की और भी कहानियां पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें  Panchatantra stories in Hindi

धन्यवाद…

इस हिंदी कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें (Share This Hindi Story With Your Friends Now)

आवश्यक सूचना – Become A Storyteller  

हेलो दोस्तों, आप सभी के लिए एक अच्छी खुशखबरी है। अगर आपको कहानियां लिखना पसंद है तो आप हमें अपनी हिंदी कहानियां हमारी मेल आईडी hello@moralstoriesinhindi.net पर भेज सकते हैं। हम आपकी कहानियों को आपकी फोटो और और एक Introduction के साथ अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे। तो अब देरी किस बात की हमें आपकी कहानियों का इंतजार है।

Note: 

1 – हम केवल हिंदी भाषा में ही कहानियों को प्रकाशित करते हैं, तो किसी अन्य भाषा में कहानी ना भेजें। 

2- हम केवल और केवल नैतिक,उत्साहवर्धन करने वाली कहानियां ही प्रकाशित करते हैं जिन्हें परिवार के साथ पढ़ा जा सके। अतः किसी भी प्रकार का अश्लील साहित्य ना भेजें।

3- कहानी अपने शब्दों में ही भेजें कहीं से कॉपी पेस्ट करके ना भेजें। यदि आप केवल कॉपी पेस्ट करके हमें कहानियां भेजेंगे, तो हम उन्हें प्रकाशित नहीं कर पाएंगे। हां उन्हें कहानियों को आप अपने शब्दों में दोबारा लिखकर भेजेंगे तो हम उन्हें अवश्य ही प्रकाशित करेंगे।

Panchatantra stories in Hindi प्यासा कौवा

Panchatantra stories in Hindi प्यासा कौवा

Panchatantra stories in Hindi प्यासा कौवा Panchatantra stories in Hindi प्यासा कौवा : एक बार की बात है एक जंगल में एक कौवा रहता था ! एक दिन वह धूप में उड़ रहा था ! उड़ते उड़ते उसे बहुत प्यास लगी वह पानी की प्यास में आसमान में काफी काफी दूर तक उड़ता रहा, लेकिन उसे कहीं...

read more
Panchatantra stories in Hindi बंदर और ऊंट

Panchatantra stories in Hindi बंदर और ऊंट

Panchatantra stories in Hindi बंदर और ऊंट Panchatantra stories in Hindi बंदर और ऊंट : कई साल पहले एक बहुत सुंदर जंगल हुआ करता था ! वहां पर तरह तरह के जानवर रहते थे !  एक बार सभी जानवरों को अपनी अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिला ! सभी जानवर अपनी-अपनी अपना अपना अभिनय...

read more
Panchatantra stories in Hindi तीन  बैलों की कहानी

Panchatantra stories in Hindi तीन  बैलों की कहानी

Panchatantra stories in Hindi तीन  बैलों की कहानी Panchatantra stories in Hindi तीन  बैलों की कहानी : एक बार की बात है एक जंगल में तीन  बैल रहते थे ! वह बैल आपस में बहुत अच्छे दोस्त थे ! वह साथ मिलकर घास  चरने जाते थे ! और बिना किसी लड़ाई झगड़े के हर चीज आपस में बांट...

read more
Panchatantra stories in Hindi अंगूर खट्टे हैं

Panchatantra stories in Hindi अंगूर खट्टे हैं

Panchatantra stories in Hindi अंगूर खट्टे हैं Panchatantra stories in Hindi अंगूर खट्टे हैं : एक बार की बात है एक लोमड़ी  अंगूरों के बाग से से गुजर रही थी ! वह अंगूरों की बहुत शौकीन थी ! उसने देखा कि पार्क में चारों तरफ अंगूरों के बहुत से गुच्छे लटक रहे थे ! लेकिन वह...

read more

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pin It on Pinterest

Shares
Share This

Share This

Share this post with your friends!