क्या आप अपने नाम व फोटो के साथ यहां कहानी प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

Motivational Story In Hindi – चील और मुर्गी

by | Feb 24, 2020 | Motivational Story in Hindi

इस हिंदी कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें (Share This Hindi Story With Your Friends Now)

Motivational Story In Hindi – चील और मुर्गी

(Short Motivational Story In Hindi)

Motivational Story In Hindi – चील और मुर्गी: हेलो दोस्तों कैसे हैं आप लोग। आज फिर एक नई मोटिवेशनल कहानी के साथ आपके साथ फिर से  हाजिर हूं। यह कहानी परवरिश और सोच के ऊपर है। बिना समय व्यर्थ करते हुए हम सीधे कहानी शुरू करते हैं। बात पुराने समय  की है। एक जंगल में काफी ऊंचा बरगद का पेड़ था। चील आमतौर पर अपना घोंसला ऊंचे वृक्षों पर ही बनाती हैं। इस बरगद के पेड़ पर भी एक चील ने अपना घोंसला बनाया हुआ था।

एक बार काफी तेज हवाएं चल रही थी और इसी बीच चील का अंडा घोसले से निकलकर नीचे एक जंगली मुर्गी के घोसले में गिर गया। चील को और मुर्गी को दोनों को ही इस बात का एहसास नहीं हुआ। जंगली मुर्गी अपने अंडों की तरह  चील के अंडों की भी रखवाली करते रही।

 बाद में अंडा फूटा और उसमें से  मुर्गी के बच्चे के बजाय चील का बच्चा निकला। मुर्गी अंतर को नहीं समझ पाई और उसमें सील के बच्चों को अपना बच्चा समझ कर पालना शुरू कर दिया। उस चील के बच्चे का  व्यवहार, खाने-पीने की आदतें और उड़ान सब मुर्गी की तरह ही थे। वह केवल उतना ही ऊंचा उड़ पाता था जितना कि एक मुर्गा या मुर्गी उड़ पाते हैं।

वहीं दूसरी तरफ एक बार चील आकाश में उड़ रही थी और उसकी नजर नीचे एक दूसरी चील पर पड़ी जो कि बिल्कुल मुर्गियों जैसा बर्ताव कर रही थी। उसको बहुत ही आश्चर्य हुआ। उसने पास जाकर पूरा मामला समझने के कोशिश की।

उसने उस चील के बच्चे से पूछा कि तुम और ऊंचा क्यों नहीं उड़ते, चील के हिसाब से यह बहुत कम ऊंचाई है। चील के बच्चे को समझ में ही नहीं आया कि वह क्या जवाब दें। उसने बोला मैं तो एक मुर्गा हूं और मुर्गा इतना ऊंचाई तक उड़ता है।

उस चील के बच्चे से बातचीत के दौरान चील को यह बात समझ में आ चुकी थी कि यह उसका ही बच्चा है जो कि गलती से नीचे गिर गया होगा। उसने बड़े प्यार से अपने बच्चे को अपने ऊपर बैठाया और उड़ा कर अपने घोंसले तक ले गई।

उसमें उस बच्चे को समझाया देखो, तुम देखने में बिल्कुल मेरी तरह लगते हो। और मैं तो चील हूं मैं मुर्गा नहीं हूं।  मेरे ख्याल से तुम्हारी परवरिश मुर्गी के बच्चों के साथ हुई है इसलिए तुम्हें ऐसा लगता है कि तुम मुर्गी और मुर्गे हो। जबकि वास्तविकता में तुम एक चील हो। और तुम एक बहुत ऊंची उड़ान भरने के लिए ही पैदा हुए हो।

यह सुनकर उस चील के बच्चे को एहसास होने लगा कि वह  चील ही है। अभी बातचीत हो ही रही थी की चील ने उस बच्चे को घोसले से नीचे फेंक दिया। जब वह बच्चा नीचे गिर रहा था तो वह बहुत ही डर गया और डर के मारे उसने अपने दोनों पंख फैला दिया। पंख फैलाते हैं वह सचमुच चील की तरह ही उड़ रहा था। क्योंकि वह एक चील ही था। अब उसकी मां उसके पास आ गई और दोनों काफी देर तक यूं ही आसमान में उड़ते रहे।

Moral of the Motivational Story In Hindi – चील और मुर्गी story

कई बार हमारे आसपास के व्यक्ति हमें कुछ भी नया प्रयोग करने से रोकते हैं। वैसा मानते हैं कि कुछ भी नया करने का प्रयास किया गया तो नाकामी हाथ लगेगी। तो नाकामी के डर से वह प्रयास भी नहीं करते। हमें ऐसे लोगों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए और सकारात्मक सोच के साथ और पूरे आत्मविश्वास के साथ नए प्रयोग करने चाहिए। और कभी कभी एक धक्का आत्मविश्वास जगा देता है।

और मोटिवेशनल  कहानियां हिंदी में पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें Motivational Story in Hindi

आशा है यह कहानी आपको पसंद आई होगी। यदि पसंद आई है तो कृपया इसे शेयर जरूर करिएगा।

इस हिंदी कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें (Share This Hindi Story With Your Friends Now)

आवश्यक सूचना – Become A Storyteller  

हेलो दोस्तों, आप सभी के लिए एक अच्छी खुशखबरी है। अगर आपको कहानियां लिखना पसंद है तो आप हमें अपनी हिंदी कहानियां हमारी मेल आईडी hello@moralstoriesinhindi.net पर भेज सकते हैं। हम आपकी कहानियों को आपकी फोटो और और एक Introduction के साथ अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे। तो अब देरी किस बात की हमें आपकी कहानियों का इंतजार है।

Note: 

1 – हम केवल हिंदी भाषा में ही कहानियों को प्रकाशित करते हैं, तो किसी अन्य भाषा में कहानी ना भेजें। 

2- हम केवल और केवल नैतिक,उत्साहवर्धन करने वाली कहानियां ही प्रकाशित करते हैं जिन्हें परिवार के साथ पढ़ा जा सके। अतः किसी भी प्रकार का अश्लील साहित्य ना भेजें।

3- कहानी अपने शब्दों में ही भेजें कहीं से कॉपी पेस्ट करके ना भेजें। यदि आप केवल कॉपी पेस्ट करके हमें कहानियां भेजेंगे, तो हम उन्हें प्रकाशित नहीं कर पाएंगे। हां उन्हें कहानियों को आप अपने शब्दों में दोबारा लिखकर भेजेंगे तो हम उन्हें अवश्य ही प्रकाशित करेंगे।

Sylvester Stallone Motivational Life Story In Hindi

Sylvester Stallone Motivational Life Story In Hindi

Sylvester Stallone Motivational Life Story In Hindi Sylvester Stallone Motivational Life Story In Hindi: एक बार सोचिए अगर किसी की किस्मत इतनी ज्यादा बुरी हो कि वह कभी कुछ कर ही ना पाए। जैसे ही वह कुछ करना शुरू करें तो उसे केवल और केवल असफलता ही हाथ लगे। 100 काम करने...

read more
Motivational Story In Hindi Boy’s Job Self Appraisal

Motivational Story In Hindi Boy’s Job Self Appraisal

Motivational Story In Hindi Boy’s Job Self Appraisal Motivational Story In Hindi Boy’s Job Self Appraisal: एक छोटा लड़का एक दवा की दुकान में गया, वहां उसने दवाइयों का एक मजबूत डब्बा खींच कर काउंटर तक लेकर आया और उस डब्बे के ऊपर चढ़ गया ताकि वह फोन के बटन तक पहुंच सके...

read more
Motivational Story in Hindi A Father and His Daughter

Motivational Story in Hindi A Father and His Daughter

Motivational Story in Hindi A Father and His Daughter Motivational Story in Hindi A Father and His Daughter: पार्क में एक पिता और उसकी बेटी खेल रहे थे। उनकी युवा बेटी एक सेब विक्रेता के साथ घूमती थी। उसने अपने पिता से एक सेब खरीदने के लिए कहा। पिता अपने साथ ज्यादा...

read more
Motivational Story in Hindi Mother’s Love for a Boy

Motivational Story in Hindi Mother’s Love for a Boy

Motivational Story in Hindi Mother’s Love for a Boy Motivational Story in Hindi Mother’s Love for a Boy: एक दिन थॉमस एडिसन घर आए और अपनी मां को एक पेपर दिया। उन्होंने उससे कहा, "मेरे शिक्षक ने मुझे यह पेपर दिया और मुझसे कहा कि इसे केवल मेरी माँ को दे दो।" वह अपने...

read more

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pin It on Pinterest

Shares
Share This

Share This

Share this post with your friends!