क्या आप अपने नाम व फोटो के साथ यहां कहानी प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

Lok Kathaye Krishn Darshan

by | Mar 6, 2020 | Karnatak, Lok Kathaye

इस हिंदी कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें (Share This Hindi Story With Your Friends Now)

Lok Kathaye Krishn Darshan

Lok Kathaye Krishn Darshan : बहिर एक सीधा-साधा किसान था। वह दिन भर खेतों में मेहनत स काम करता और शाम को प्रभु का गुणगान करता।

बहिर के मनकि  चाहत थी। वह उडुपि के भगवान श्री कृष्ण के दर्शन करना चहता था। उडुपि दक्षिण कन्नड़ जिले का प्रमुख तीर्थ था। प्रतिवर्ष जब तीर्थयात्री वहां जाने को तैयार होते तो बहिर का मन भी मचल जाता कितु धन की कमी के कारण उसका जाना न हो पाता।

इसी तरह कुछ वर्ष बीत गए। बहिर ने कुछ पैसे जमा कर लिए। घर से निकलते समय उसकी पत्नी ने बहुत-सा खाने-पीने का सामान बाँध दिया। उन दिनों यातायात के साधनों का अभाव था। तीर्थयात्री पैदल ही जाया करते।

रास्ते में बहिर की भेंट एक बूढ़े व्यक्ति से हुई। बूढ़े के कपड़े फटे-पुराने थे और पांव में जूते तक न थे। अन्य तीर्थयात्री उससे कतराकर निकल गए किंतु बहिर से न  रह गया उसने बूढ़े से पूछा

‘बाबा, क्या आप भी उडुपि जा रहे हैं?’

बूढ़े की आँखों में आँसू आ गए। उसने रोते हुए स्वर में उत्तर दिया  ‘मैं भला तीर्थ कैसे कर सकता हूँ? मैं एक बहुत ही गरीब आदमी हूं मेरे पास तो पैसे भी नहीं है मेरा एक बच्चा तो बीमार है, और दूसरे बेटे ने से कुछ नहीं खाया।’

बहिर भला व्यक्ति था। उसका मन पसीज गया। उसने निश्चय किया कि वह उडुपि जाने से पहले बूढ़े के घर जाएगा।

बूढ़े के घर पहुँचते ही बहिर ने सबको भोजन खिलाया। बीमार बच्चे को दवा दी। बूढे के खेत, बीजों के अभाव में खाली पड़े थे। लौटते-लौटते बहिर ने उसे बीजों के लिए भी धन दे दिया।

जब वह उडुपि जाने लगा तो उसने पाया कि सारा धन तो खत्म हो गया था। वह चुपचाप अपने घर लौट आया। उसके मन में तीर्थयात्रा न करने का कोई दु:ख न था बल्कि उसे खुशी थी कि उसने किसी का भला किया है।

बहिर की पत्नी भी उसके इस कार्य से प्रसन्न थी। रात को बहिर ने सपने में भगवान कृष्ण को देखा। उन्होंने उसे आशीर्वाद दिया और कहा :

‘बहिर, तुम मेरे सच्चे भक्त हो। जो व्यक्ति मेरे ही बनाए मनुष्य से प्रेम नहीं करता, वह मेरा भक्त कदापि नहीं हो सकता।’

तुमने उस बूढ़े की सहायता की और रास्ते से ही लौट आए। उस बूढ़े व्यक्ति के रूप में मैं ही था । अनेक तीर्थयात्री मेरी उपेक्षा करते हुए आगे बढ़ गए,  सिर्फ तुमने ही मेरी बात सुनी।

में सदा तुम्हारे साथ रहूँगा। तुम अपने स्वभाव से  कभी  भी दया, करुणा और प्रेम का  का त्याग मत करना।’

शिक्षा Conclusion of Lok Kathaye Krishn Darshan

इस तरह से बहिर को तीर्थयात्रा का फल मिल गया था।


कैसे हो दोस्तों। आपको यह Lok Kathaye Krishn Darshan in Hindi कहानी कैसी लगी? उम्मीद है आपने इस कहानी को खूब enjoy किया होगा। अब एक छोटा सा काम आपके लिए भी, अगर यह कहानी आपको अच्छी लगी हो तो सोशल मीडिया जैसे Facebook, Twitter, LinkedIn, WhatsApp (फेसबुक टि्वटर लिंकडइन इंस्टाग्राम व्हाट्सएप) आदि पर यह कहानी को खूब शेयर करिए।

इसके अलावा और कहानियां पढ़ने के लिए  यहां क्लिक करें Lok kathaye karnatak in Hindi

धन्यवाद…

इस हिंदी कहानी को अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें (Share This Hindi Story With Your Friends Now)

आवश्यक सूचना – Become A Storyteller  

हेलो दोस्तों, आप सभी के लिए एक अच्छी खुशखबरी है। अगर आपको कहानियां लिखना पसंद है तो आप हमें अपनी हिंदी कहानियां हमारी मेल आईडी hello@moralstoriesinhindi.net पर भेज सकते हैं। हम आपकी कहानियों को आपकी फोटो और और एक Introduction के साथ अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित करेंगे। तो अब देरी किस बात की हमें आपकी कहानियों का इंतजार है।

Note: 

1 – हम केवल हिंदी भाषा में ही कहानियों को प्रकाशित करते हैं, तो किसी अन्य भाषा में कहानी ना भेजें। 

2- हम केवल और केवल नैतिक,उत्साहवर्धन करने वाली कहानियां ही प्रकाशित करते हैं जिन्हें परिवार के साथ पढ़ा जा सके। अतः किसी भी प्रकार का अश्लील साहित्य ना भेजें।

3- कहानी अपने शब्दों में ही भेजें कहीं से कॉपी पेस्ट करके ना भेजें। यदि आप केवल कॉपी पेस्ट करके हमें कहानियां भेजेंगे, तो हम उन्हें प्रकाशित नहीं कर पाएंगे। हां उन्हें कहानियों को आप अपने शब्दों में दोबारा लिखकर भेजेंगे तो हम उन्हें अवश्य ही प्रकाशित करेंगे।

Lok Kathaye One Mistake

Lok Kathaye One Mistake

Lok Kathaye One Mistake Lok Kathaye One Mistake : महाराज कृष्णदेव राय का दरबार सजा हुआ था। सदा की भाँति तेनालीराम भी अपने आसन पर बैठे थे। वैसे तो महाराज कृष्णदेव राय के दरबार में  बहुत से योग्य  व्यक्ति थे। वे स्वयं एक कवि थे। उन्होंने संस्कृत में कई ग्रंथ भी लिखे थे,...

read more
Lok Kathaye Foolish Pratima

Lok Kathaye Foolish Pratima

Lok Kathaye Foolish Pratima Lok Kathaye Foolish Pratima : बहुत समय पहले की बात है। गंगावती नगर के राजा  शिकार को निकले। शिकार की तलाश में सुबह से शाम हो गई। तभी अचानक उनकी नजर एक जंगली सूअर पर पड़ी। राजा ने घोड़े को एड़ लगाई और सूअर का पीछा करने लगे। कुछ ही देर में...

read more
Lok Kathaye Worship of Dhuma

Lok Kathaye Worship of Dhuma

Lok Kathaye Worship of Dhuma Lok Kathaye Worship of Dhuma : बहुत समय पहले की बात है। देवगिरि पर्वत के समीप एक ब्राह्मण परिवार रहता था । ब्राह्मण की पत्नी का नाम था ललिता। यूँ तो परिवार खुशहाल था किंतु घर में संतान न थी। । विवाह के कई वर्ष बाद ललिता ने अपनी छोटी बहन...

read more

0 Comments

Submit a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pin It on Pinterest

Shares
Share This

Share This

Share this post with your friends!